कंप्यूटर की पीढ़ियां | Generations Of Computer in Hindi | All generation Computers Details in Hindi

Computer की पीढ़ी संभवत एक महत्वपूर्ण चर्चा का विषय है तो आज हम इसी बारे में बात करने वाले हैं कि कंप्यूटर की विभिन्न पीढ़ियां उसके काल और पीढ़ियों के मुख्य विकास तथा विशेषताएं क्या क्या है ?

What are the different generations of computer and their period and invention and characteristics in Hindi

सन 1946 में प्रथम इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस वेक्यूम ट्यूब (vacuum tube) युक्त एनीकॉल (ENIAC) कंप्यूटर की शुरुआत के कंप्यूटर के विकास के एक आधार है कंप्यूटर के विकास के इस क्रम में कई महत्वपूर्ण डिवाइजेस की सहायता से कंप्यूटर की आज तक की यात्रा मानी जाती है



और इन्हीं सब की सहायता से कंप्यूटर ने आज तक की यात्रा तय की है इस विकास के क्रम में हम पहले कंप्यूटर में हुए मुख्य परिवर्तन के आधार पर 5 पीढ़ियां बांटते हैं,


प्रथम पीढ़ी (1th generation)

द्वितीय पीढ़ी (2th generation)

तृतीय पीढ़ी (3th generation)

चतुर्थी पीढ़ी (4th generation)

पंचम पीढ़ी (5th generation)


आज हम कंप्यूटर की सभी जनरेशन के बारे में जानेंगे 

प्रथम पीढ़ी - 1946 से 1956

द्वितीय पीढ़ी - 1956 से 1964

तृतीय पीढ़ी - 1964 से 1971

चतुर्थ पीढ़ी - 1971 से वर्तमान

पंचम पीढ़ी - वर्तमान और भविष्य



Table Of Contents

कंप्यूटर की प्रथम पीढ़ी
कंप्यूटर की द्वितीय पीढ़ी
द्वितीय पीढ़ी के कंप्यूटर के लक्षण
पंचम पीढ़ी के कंप्यूटरों के लक्षण


कंप्यूटर की प्रथम पीढ़ी 

First Generation Computers in Hindi

सन 1946 में Accord or मुचली के एनिक (ENIAC) नमक कंप्यूटर के निर्माण से ही कंप्यूटर की प्रथम पीढ़ी का प्रारंभ हो गया। इस पीढ़ी के कंप्यूटर में वैक्यूम ट्यूब का प्रयोग किया जाता था जिस का आविष्कार सन उन्नीस सौ चार में किया गया । इस पीढ़ी मैं ENIAC के अलावा और भी कई अन्य कंप्यूटरों का निर्माण हुआ जिसके नाम इलेक्ट्रॉनिक डिस्क्रीट वेरिएबल ऑटो मशीन कंप्यूटर ( electronic discrete variable auto matic computer ) -EDVAC और यूनीवैक ( Universal automatic computer) - UNIVAC और UNIVAC-1 है 

कुछ Full Forms


EDVAC Full Form

- Electronic Discrete Variable Auto Matic Computer


UNIVAC Full Form

- Universal Automatic Computer


प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर के लक्षण

Behaviour of Second Generation Computers In Hindi


◆ vacuum tube का प्रयोग

◆ पंचकार्ड पर आधारित

◆ storage के लिए magnetic drum का प्रयोग

◆ मशीनी तथा असेंबली भाषाओं मैं प्रोग्रामिंग



कंप्यूटर की द्वितीय पीढ़ी

Second Generation of Computers in Hindi

कंप्यूटरों की द्वितीय पीढ़ी की शुरुआत कंप्यूटरों में ट्रांजिस्टर का उपयोग करने से हुई वैज्ञानिक विलियम्स शॉकले ( William shockley )

ने ट्रांजिस्टर का आविष्कार सन 1947 में किया था जिसका उपयोग द्वितीय पीढ़ी के कंप्यूटर रूम में वैक्यूम ट्यूब के स्थान पर किया जाने लगा। ट्रांजिस्टर के उपयोग ने कंप्यूटरों को वेक्यूम ट्यूब के अपेक्षाकृत अधिक गति एवं विश्वसनीयता प्रदान की।


द्वितीय पीढ़ी के कंप्यूटर के लक्षण

Behaviour of Second Generation Computers In Hindi

◆ वेक्यूम ट्यूब के स्थान पर ट्रांजिस्टर का प्रयोग

◆ अपेक्षाकृत छोटे एवं ऊर्जा की कम खबर

◆ प्रथम पीढ़ी की अपेक्षा कम खर्चीले

◆ अधिक तेज एवं विश्वसनीय

◆ COBOL एवं FORTEAN जैसी उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं का विकास

◆ storage device printer एवं operating system आदि का प्रयोग,



कंप्यूटर की तृतीय पीढ़ी 

Third Generation of Computers In Hindi

कंप्यूटरों की तृतीय पीढ़ी की शुरुआत 1964 में हुई इस पीढ़ी ने कंप्यूटरों को आईसी प्रदान की IC अर्थात Integrated circuit इसका आविष्कार टैक्सास इंस्ट्रूमेंट्स कंपनी के अभियंता जैक किल्बी ने किया था। इस पीढ़ी के कंप्यूटरों में ICL 2903,ICL 1900, UNIVAC 1108 और system1360 प्रमुख थे


तृतीय पीढ़ी के कंप्यूटरों के लक्षण

Behaviour of Third Generation Computers In Hindi

◆ Integrated circuit का प्रयोग

◆ प्रथम एवं द्वितीय पीढ़ी की अपेक्षा आकार में कम

◆ अधिक विश्वसनीय

◆ उच्च स्तरीय भाषाओं का बृहद स्तर पर प्रयोग

◆ पोर्टेबल एवं आसान रखरखाव



कंप्यूटर की चतुर्थ पीढ़ी

 Fourth Generation of computers

सन 1971 से लेकर आज तक के कंप्यूटर को चतुर्थ पीढ़ी के कंप्यूटर की श्रेणी में रखा गया है। इस श्रेणी में इंटीग्रेटेड सर्किट को अधिक विकसित किया गया है। जिसे large integrated circuit कहा जाता है अब लगभग 3,00,000 ट्रांजिस्टर के बराबर का परिपथ 1 इंच के चौड़ाई भाग में समाहित हो सकता है इस अविष्कार से पूरी सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट एक छोटी सी चिप में आ गई जिसे माइक्रो प्रोसेसर कहा जाता है इसके उपयोग वाले कंप्यूटरों को माइक्रोकंप्यूटर कहा गया,

ALTAIR 8800 सबसे पहला माइक्रो कंप्यूटर था जिसे मीट्स नामक कंपनी ने बनाया था इसी कंप्यूटर पर बिल गेट्स जो कि उस समय हावर्ड विश्वविद्यालय के छात्र थे ने बेसिक भाषा को स्थापित किया इस सफल प्रयास के बाद बिल गेट्स ने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी की स्थापना की जो दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी है इस कारण बिल गेट्स को दुनियाभर के कंप्यूटरों का स्वामी (God Of Computer ) कहा जाता है,


चतुर्थ पीढ़ी के कंप्यूटरों के लक्षण

Behaviour of Fourth Generation Computers In Hindi

◆ very large scale integration तकनीक का प्रयोग

◆ आकार में अद्भुत कमी

◆ अधिक प्रभावशाली, विश्वसनीय एवं अद्भुत गतिमान

◆ साधारण आदमी के क्राय के अंदर

◆ अधिक मेमोरी क्षमता 

◆ कंप्यूटरों के विभिन्न नेटवर्क का विकास



कंप्यूटर की पंचम पीढ़ी

Fifth Generation Of Computers

कंप्यूटर की पांचवी पीढ़ी में वर्तमान के शक्तिशाली एवं उच्च तकनीक वाले कंप्यूटर से लेकर भविष्य में आने वाले कंप्यूटर तक को शामिल किया गया है इस पीढ़ी के कंप्यूटरों में कंप्यूटर वैज्ञानिक कृत्रिम बुद्धिमत्ता artificial intelligence को समाहित करने के लिए प्रयासरत हैं। आज के कंप्यूटर इतने उन्नत है कि वह हर विशिष्ट क्षेत्र का मूल रूप के एकाउंटिंग , इंजीनियरिंग , भवन निर्माण , अंतरिक्ष तथा दूसरे प्रकार के शोध कार्य में उपयोग किए जा रहे हैं,

इस पीढ़ी के प्रारंभ में कंप्यूटरों को परस्पर संयोजित किया गया ताकि डाटा तथा सूचना की आपस में साझेदारी तथा आदान-प्रदान हो सके नए इंटीग्रेटेड सर्किट कमा अल्ट्रा लार्ज स्केल इंटीग्रेटेड सर्किट (Ultra Large Scale Integrated circuit) ने पुराने Integrated circuit को रिप्लेस करना शुरू किया। इस पीढ़ी में प्रतिदिन कंप्यूटर के आकार को घटाने का प्रयास किया जा रहा है जिसके फलस्वरूप हम घड़ी के आकार में भी कंप्यूटर को देख सकते हैं

पोर्टेबल कंप्यूटर तथा इंटरनेट की सहायता से जब और जहां से हम चाहे दस्तावेज, सूचना तथा पैसे का आदान प्रदान कर सकते हैं।


पंचम पीढ़ी के कंप्यूटरों के लक्षण

Behaviour of Fifth Generation Computers In Hindi

◆ कंप्यूटरों के विभिन्न आकार

आवश्यकता के अनुरूप इस युग में कंप्यूटर के आकार को तैयार करना मानव के हाथों में है वह ऐसे जैसा काम तैयार करना चाहे कर सकता है जैसे डेक्सटॉप , लैपटॉप आदि कंप्यूटर उपलब्ध है


◆ इंटरनेट

यह कंप्यूटर का एक ग्लोबल नेटवर्क है । दुनियाभर के कंप्यूटर नेटवर्क इंटरनेट से जुड़े होते हैं और इस तरह हम कहीं से भी घर बैठे अपने स्वास्थ्य , चिकित्सा , विज्ञान , कला एवं संस्कृति आदि लगभग सभी विषयों पर विविध सामग्री इंटरनेट से प्राप्त कर सकते हैं।


◆ मल्टीमीडिया

ध्वनि ,दृश्य या चित्र और टेक्स्ट के सम्मिलित रूप को मल्टीमीडिया कहते हैं इसका विकास इसी युग में हुआ है और होगा


◆ नए अनुप्रयोग

कंप्यूटर में तकनीक अति विकसित होंगी इसके कारण इसके अनुप्रयोग जैसे फिल्म-निर्माण यातायात-नियंत्रण उद्योग , व्यापार एवं रिसर्च आदि के क्षेत्र में अधिक उन्नति होगी।






और नया पुराने