बीसीएस कोर्स क्या है? पूरी जानकारी | bcs course details in hindi

bcs course details in hindi : अगर आप भी जानना चाहते हैं कि क्या है बीसीएस कोर्स तो आज आपको इसके बारे में संपूर्ण जानकारी मिल जाएगी की बीसीएस कोर्स के सबसे अच्छे कॉलेज कौन से हैं? बीसीएस कोर्स क्या है यह कितने सालों में पूरा होता है इसकी फीस कितनी है एवं कौन सी यूनिवर्सिटी से हम इसे कर सकते हैं इसी तरह के सभी सवालों के जवाब आपको आज नीचे जरूर मिल जाएंगे इसीलिए अंत तक जरूर बने रहे।

अगर आप अभी-अभी बार भी कंप्लीट कर कर आए हैं तो यह कोर्स आपके लिए एक ऑप्शन हो सकता है परंतु आप किस विषय से बारहवीं उत्तीर्ण कर आए हैं यह बात इसमें ज्यादा महत्वपूर्ण होगी। क्योंकि बहुत सी यूनिवर्सिटी सभी विषय वाले विद्यार्थियों को बीसीएस कोर्स करने की अनुमति प्रदान नहीं करती है इसीलिए कुछ ही विषय है जिन पर आप बीसीएस कोर्स कर सकते हैं, चलिए बारी-बारी जानते हैं कि बीसीएस कोर्स क्या है ?


bcs course details in hindi ( बीसीएस कोर्स क्या है पूरी जानकारी )

दरअसल पीसीएस एक कंप्यूटर से संबंधित कोर्स है जिसका पूरा नाम बैचलर ऑफ कंप्यूटर साइंस है, इस कोर्स की मदद से आप अपना नॉलेज बढ़ा सकते हैं यह कोर्स आपको हार्डवेयर एवं सॉफ्टवेयर तथा प्रोग्रामिंग के विषय में नॉलेज प्रदान करता है एवं साथ ही इस का पाठ्यक्रम लगभग बी  टैग  बी इ आईटी के समान है,

इस कोर्स की मदद से आप 12वीं के बाद आगे की पढ़ाई कर पाएंगे तथा यह इसके लिए एक अच्छा ऑप्शन माना जा रहा है आज से कुछ समय पहले तक लोग इस कोर्स के बारे में जानते भी नहीं थे परंतु धीरे-धीरे यह लोगों की नजर में आने से काफी लोगों का ध्यान केंद्रित कर रहा है

 इसके लिए सब्जेक्ट के रूप में अगर हम ऊपर ऊपर रूप से देखें तो इसमें आपको सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट वेब डिजाइनिंग जैसे कि एचटीएमएल सीएसएस जावास्क्रिप्ट के साथ-साथ अन्य लैंग्वेज एवं कंप्यूटर का ज्ञान भी दिया जाएगा,  जिस कारण आपको यह कोर्स करना चाहिए।


b.c.s full form :

Bachelor of Computer Science is the full form of BCS


bcs full form in hindi :

बैचलर ऑफ कंप्यूटर साइंस बी सी एस का पूरा नाम है,


bcs it full form :

बैचलर ऑफ कंप्यूटर साइंस  इनफॉरमेशन एंड टेक्नोलॉजी  बीएससी आईटी  का पूरा नाम है, बी  सी एस  सीएसआईटी दोनों एक ही प्रकार के  कोर्स है। 


bcs course information in Hindi

यह कोर्स लगभग 3 साल का होता है और 3 साल में यह कोर्स पूरी तरह कंप्लीट हो जाता है फिलहाल इस में सेमेस्टर सिस्टम जारी है जोकि 6 सेमेस्टर का है प्रत्येक साल में आपको इसमें 2 सेमेस्टर के पेपर देने होंगे दोनों में पास होने के बाद आप अगले सेमेस्टर में होंगे, लगभग हर सेमेस्टर में आपको अलग-अलग विषय होने की संभावना रहती है इसका सिलेबस बीटेक के लगभग समान ही होता है इसलिए आप बीटेक की तरह ही इसे समझ सकते हैं इसी पढ़ने के लिए आप को  आपको बार अच्छे नंबरों से उद्दीन होना आवश्यक है यह नंबर कम से कम 50% होना चाहिए,

 जिसके बाद इसकी कॉलेज में आपको एडमिशन लेने की प्रक्रिया का हिस्सा बनना होगा अक्सर कुछ कॉलेज इसके लिए एक आगामी परीक्षा रखते हैं एंट्रेंस एग्जाम जिसे निकालने के बाद ही आपको कॉलेज में एडमिशन मिलता है परंतु लगभग सभी कॉलेजों में ऐसा नहीं होता है, 


इसमें इस्तेमाल होने वाले विषयों को इस तरह से तैयार किया जाता है कि हर साल कोई ना कोई प्रोग्रामिंग लैंग्वेज आपको इसमें रहे ताकि एक ही साल में सारा बोझ आपके ऊपर ना आए साथ ही कठिन विषयों को हर अलग-अलग सेमेस्टर में बांट दिया जाता है जिससे कि पढ़ाई का बोझ ज्यादा ना बड़े अगर आप कंप्यूटर में अधिक रूचि रखते हैं तो  आप बीसीए या बीसीएस कोर्स कर सकते हैं क्योंकि यह दोनों ही कोर्स में बहुत अधिक समानता है,

फिलहाल आईडी इस मान्यता अधिक है कंप्यूटर से जुड़े हुए सभी कोर्स फिलहाल आईटी कंपनियों में अधिक मारने हैं और एक अच्छा पैकेज आपको इन कंपनियों से मिल सकता है, इस कोर्स को अच्छी तरह से करने के बाद आपके अंदर निम्न स्किल डेवलप हो जाएंगे, और इस बहुत इत्मीनान से एवं ध्यान लगाकर करते हैं:


बीसीएस कोर्स करने से फायदे (BCS course ke fayde)


  1.  आप अपना खुद का मोबाइल एप बना सकेंगे

  2.  आप खुद का ग्राफिक डिजाइनिंग काम शुरू कर सकते हैं

  3.  इस कोर्स में सिखाई गई वेब डिजाइनिंग की मदद से आप अपनी खुद की वेबसाइट से बना सकते हैं एवं उन्हें बनाकर भेज सकते हैं

  4.  ई-कॉमर्स के प्रति आपका रुझान और बढ़ सकता है और आप इस और ज्यादा तरक्की कर पाएंगे

  5.  प्राइवेट कंपनियों में इस्तेमाल होने वाली कोई भी लैंग्वेज जो आपने  इस कोर्स के अंतर्गत नहीं भी पड़ी हो वह भी आपको कुछ समय पड़ने पर ही बनने लगेगी

  6.  विभिन्न प्रकार की लैंग्वेज इज जैसे जावा (JAVA) सी प्लस प्लस (C++) , एचटीएमएल (HTML), जावास्क्रिप्ट(JAVA SCRIPT) इत्यादि का ज्ञान आपके अंदर होगा,



बीसीएस कोर्स की फीस कितनी है ? (BCS course ki fees kitni hai )

 अब हम बात करते हैं “bcs course fees”  के बारे में तो इस कोर्स की फीस आपको  लगभग ₹2 लाख प्रति साल तक लग सकती है अलग-अलग कॉलेजेस एवं अलग-अलग यूनिवर्सिटी इसके लिए अलग-अलग कीमत लेती है, 


bcs course total fees

कोर्स की पूरी फीस लगभग ₹6 लाख हो सकती है, यह एक एवरेज कीमत है यह कोर्स इससे ज्यादा मैं भी हो सकता है और इससे कम में भी हो सकता है इसीलिए जिस भी कॉलेज में आपको एडमिशन लेना हो उस कॉलेज में आप एक बार जरूर पता कर ले,


bcs course fees in government college 

गवर्नमेंट कॉलेज बीसीएस कोर्स की फीस आपको लगभग डेढ़ लाख रुपए तक होगी, जो कि सभी कॉलेज इसमें अलग अलग रहती है

  बीसीएस में कोर्स के हिसाब से भी  शुल्क बदलती रहती है, आप जो जो विषय चुनेंगे उसके हिसाब से आपकी फीस रहेगी।


बीसीएस कौन सी डिग्री है ? (bcs kon si degree hai )

एक प्रकार की बैचलर डिग्री है, जिसे हम अंडर ग्रेजुएट डिग्री (UG)  भी कह सकते हैं, इसके बाद आप अपनी मर्जी के हिसाब से  मास्टर डिग्री भी कर सकते हैं, जो कि इसमें एक ऑप्शन के रूप में उपलब्ध रहती है। 


कम से कम कितनी उम्र बीसीएस करने के लिए होनी चाहिए ? (Minimum age for BCS)

किसी भी कॉलेज द्वारा अभी तक इस कोर्स को करने के लिए कोई भी  कम से कम उम्र निर्धारित नहीं की गई है, इसलिए एक अंदाज के रूप में 18 साल से ऊपर का कोई भी बच्चा इस कोर्स को कर सकता है ऐसा इसलिए माना जाता है क्योंकि 12वीं तक पढ़ाई कर रहे हैं में किसी भी बच्चे को लगभग 18 साल का समय लग जाता है इसीलिए हम यह मानकर चलते हैं कि 18 साल से कुछ महीने छोटा या 18 साल का स्टूडेंट स्कूल को कर सकता है।, इसके लिए जरूरत सिर्फ 12वी की मार्कशीट की होगी, 


अधिकतम बीसीएस कोर्स करने के लिए कितनी उम्र  हो सकती है? (maximum age for BCS)

यह कोर्स करने के लिए एक अधिकतम उम्र लगभग 25 साल की है 25 साल तक का कोई भी विद्यार्थी इस कोर्स को कर सकता है, यह एक बैचलर डिग्री है जो कि इस बात का कारण बनती है साथ ही इसके बाद होने वाला मास्टर के कारण भी लोग ऐसे जल्दी ही कर लेते हैं यह कोर्स 12वीं के बाद संभव है इसीलिए 25 साल की उम्र तक का कोई भी विद्यार्थी इसे पूरा कर सकता है।


बीसीएस कोर्स के लिए 12वीं में कौन सा  विषय होना अनिवार्य है ? ( BCS ke liye 12th mein kon sa subject Hona chahiye )

बीसीएस कोर्स को पूरा करने के लिए आपको 12वीं में गणित सब्जेक्ट का होना अत्यंत आवश्यक है बिना इसके आपको अधिकतर यूनिवर्सिटी में एडमिशन नहीं मिलेगा एवं आप  इस कोर्स को नहीं कर पाएंगे, 


बीसीएस कोर्स के लिए कम से कम कितने प्रतिशत होना चाहिए ? (Minimum percentage for BCS course)

इस कोर्स को करने के लिए आपको 12वीं में लगभग आप के 50% से ज्यादा नंबर होने पर ही आपको इस कोर्स वे ध्यान देना चाहिए इसके लिए एक एवरेज प्रतिशत 50% से 60% माना जाता है। 



और नया पुराने